Thursday, 21 May 2020

Solidaridad & Vippy Industries Ltd.





आदरणीय सरपंच महोदय

नमस्कार

यह सन्देश आपको सॉलीडैरीडैड और विप्पी इंडस्ट्रीज लिमिटेड देवास के द्वारा दिया जा रहा है |

किसान भाइयों ! जैसा कि आप जानतें हैं टिड्डी दल का प्रकोप होने की सूचनाएं लगातार मिल रही हैं विशेषकर राजस्थान से लगे नीमच जिले सिंगरौली तहसील क्षेत्र , अगर-मालवा के साथ शाजापुर, उज्जैन जिले के कुछ क्षेत्र में टिड्डियों को देखा गया है जो खेतों में लगी हुई फसलों एवं वनस्पतियों को खाकर नष्ट कर रहा है |

आइये अब आपको बताते हैं टिड्डी दलों की टिड्डी दल को कैसे ढूंढा जाए?

टिड्डियों का झुंड दिन के दौरान उड़ता रहता है और शाम होने पर पेड़ों पर, झाड़ियों में, फसलों इत्यादि में बसेरा करता है और वहां रात गुजारता है| फिर वे सुबह होने पर सूरज उगने के बाद अपने बसेरे के स्थान से उठकर उड़ना शुरू कर देते हैं | इसलिए टिड्डियों के दलों की तालाश के सिलसिले में खासतौर पेड़ों और झाड़ियों वाले स्थानों कि जांच की जानी चाहिए |

आगे बात करते हैं रंगों के आधार पर टिड्डी की स्थिति की पहचान कैसे की जाती है?

युवा टिड्डियों के यह दल प्रारंभ में गुलाबी रंग के होते हैं और धीरे-धीरे वे धुंधले सलेटी अथवा भूरापन लिए हुए लाल रंग के हो जाते हैं | परिपक्वता कि स्थिति में पहुँचने पर वे पीले हो जाते हैं | शिशु-टिड्डी झुंडों के रूप में चलती है | पीली अथवा नारंगी शरीर-पृष्टिका लिए हुए उनकी आकृति गहरी काली होती है |

किसान भाइयों अब बात करते हैं कि सबसे ज्आयादा नुक्इसान करने वाले टिड्डी दल का रंग कैसा होता है

किसान भाईयों पीले रंग कि टिड्डी ही अंडे देने में सक्षम होती है, इसके लिए पीले रंग के टिड्डी दल के पड़ाव डालने पर पूरा ध्यान रखने कि आवश्यकता है, क्योंकि पड़ाव डालने के बाद टिड्डियाँ किसी भी समय अंडे देने शुरू कर देती है | अंडे देते समय दल का पड़ाव उसी स्थान पर 3-4 दिन तक रहता है और दल उड़ता नहीं है | किसान भाइयों को इस स्थिति का पूरा लाभ उठाना चाहिए | गुलाबी रंग कि टिड्डियों के दल का पड़ाव अधिक समय तक नहीं होता इसलिए इनके नियंत्रण हेतु तत्परता बहुत जरुरी है |

किसान भाइयों आपको बताते हैं कि टिड्डी दल का नियंत्रण कैसे किया जाए

मध्यप्रदेश शासन के किसान कल्याण एवं कृषि विभाग द्वारा जारी किये गये दिशा निर्देशों के अनुसार

टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए जहाँ टिड्डियों ने अंडे दिए हैं उन स्थानों को खोदकर या पानी भरकर या जुताई कर अण्डों को शीघ्रता से नष्ट करें | टिड्डी कि पहली व दूसरी अवस्था के फाके चलने में समर्थ नहीं होते हैं | दूसरी अवस्था के बाद फाका झुंड बनाकर ठीक से चलना शुरू कर देते हैं और इनसे फसलों को नुक्सान होने कि संभावना हो जाती है | इसलिए टिड्डी दल के पड़ाव व अंडे देने का पूर्ण ध्यान रखें ताकि अंडे देने कि तिथि के आधार पर फाकों के निकलने का ध्यान रखा जा सके और तुरंत नियंत्रण किया जा सके |

तीसरी अवस्था व इसके बाद कि अवस्थाओं के फाकों को उनके बढ़ने वाली दिशा में खाईयां खोदकर नष्ट करें | खाई कि गहराई कम से कम ढाई फुट व चौड़ाई एक फुट होनी चाहिए |

टिड्डी दल को भगाने के लिए यह आवश्यक है कि नजदीकी स्थानों से प्राप्त सूचना के अनुसार पूर्व से ही ध्वनि विस्तार तंत्र जैसे मांदल , ढोलक , डी जे , ट्रेक्टर का सायलेंसर निकाल कर आवाज करना , खाली टीन के डिब्बे , थाली इत्यादि स्थानीय स्तर पर तैयार रखें जिससे कि सामूहिक प्रयास से उक्त ध्वनि विस्तारक यन्त्र का उपयोग करके टिड्डी दल को आसामन में उड़ते हुए नीचे ना उतरने दिया जाए

टिड्बडी दल की संख्या में कमी लाने के लिए रासायनिक दवा नियंत्रण की भी अनुशंसा की गयी है इसके लिए किसान भाई सुबह 3 से 5 बजे तक कीटनाशी दवाएं ट्रेक्टरचलित स्प्रे पंप द्वारा अपने खेतों में छिडकाव करें

दवाओं के नाम और मात्रा इस प्रकार हैं

क्लोरोपाइरीफास 20 ई.सी. 1200 मि.ली.

डेल्टामेथ्रिन 2.8 ई.सी. 600 मि.ली.

लेम्डासाइलोथिन 5 ई.सी. 400 मि.ली.

डाईफ्लूबिनज्यूरान 25 डब्ल्यू.टी. 240 ग्राम

इन सभी रासायनिक दवाओं में से कोई एक दवा जो उपलब्ध हो जाए को  प्रति हेक्टेयर 600 लीटर पानी में मिलाकर छिडकाव करें |

जब टिड्डी दल अंडे देने की स्थिति में हो तो इस स्थिति पूरा लाभ उठाना चाहिए, रात्रि के समय या सुबह 4 बजे के बीच रासायनिक कीटनाशी पाउडर मेलाथियान 5 प्रतिशत 20 कि.ग्रा. या फेनबिल्रेड 0.4 प्रतिशत 20-25 किग्रा. या क्यूनालफ़ॉस 1.5 बी.पी. 25 किग्रा. प्रति हेक्टेयर कि दर से बुरकाव करें |

किसान भाईयों टिड्डी दल के आक्रमण के समय यदि कीटनाशी दवा उपलब्ध न हो तो ऐसी स्थिति में ट्रेक्टरचलित पॉवर स्प्रे के द्वारा तेज़ बौछार से भी भगाया जा सकता है |

किसान भाइयों कब हम आपको बताते हैं कि यदि आपको टिड्डी दल दिख जाए तो उसकी सूचना कहाँ कहाँ दी जा सकती है

किसान  भाइयों  टिड्डी दल के दिखाई देने पर उसकी सूचना 

निकटतम टिड्डी दल नियंत्रण कार्यालय

पुलिस थाना

राजस्व कार्यालय

ग्राम पंचायत

विधालय

डाकघर

कोई भी सरकारी कार्यालय

में जा कर दें ताकि राज्य सरकार के द्वारा टिड्डी दल के नियंत्रण हेतु यथासंभव  कदम तेजी से उठाये जा सकें 

किसान भाइयों आपसे निवेदन है कि आपके फोन के मैसेज बॉक्स में हमने जो लिंक भेजा है, उसे कृपया आप अपने स्थानीय व्हाट्स एप्प ग्रुप में शेयर कर दें ताकि आपके माध्यम से यह महत्वपूर्ण सूचनाएं आपके क्षेत्र में जन जन तक पहुँच कर आम जन को लाभान्वित करें |

यदि आप स्वयं कोई स्थानीय व्हाट्सएप्प ग्रुप चलाते हैं तो हमारे कार्यालय के मोबाइल नंबर 9992220655 को उसमें शामिल कर लें हम आपके व्हाट्स एप्प ग्रुप में खेती बाड़ी , पशुपालन से जुडी जनोपयोगी सूचनाएं भेजेंगे जिससे आपके पंचायत क्षेत्र में आमजन को लाभ होगा 

हम आपको जो सन्देश उपलब्ध करवा रहे हैं आपको यह सन्देश कैसे लग रहे हैं इसके बारे में भी आप अपनी प्रतिक्रिया हमारे कार्यालय के ऊपर बताये हए नंबर पर व्हाट्सएप्प के माध्यम से भेज सकते हैं |


सॉलीडैरीडैड और विप्पी इंडस्ट्रीज लिमिटेड देवास की ओर से आपका हार्दिक धन्यवाद

Seen = 694 times